कोई भी सिख कभी भीख नहीं मांगता, जानिये क्यों ?

आप गली चौराहों, सडको पार्को रेलवे स्टेशन और मंदिरों के आस पास कई भिखारी देखेंगे सभी अपने अपने लिबाज में होंगे लेकिन कभी भी आप किसी सिख को भीख मांगते हुए नहीं देखेंगे ऐसा क्यों है? इसके पीछे भी बहुत बड़ी वजह है ज़रा आप अपने दिमाग पर जोर डालिए क्या कभी आपने किसी पगड़ी पहने इंसान को सड़क किनारे कटोरे लेकर बैठे देखा है? नहीं ना, 1984 के दंगो के बाद भी सिक्खों की हालत काफी खराब हो गयी थी इस दौरान सिक्खों ने मजदूरी कर ली लेकिन भीख नहीं माँगी अब आप पूछेंगे क्यों? जब हर कोई भिखारी बन जाता है तो सिक्ख क्यों नहीं? तो चलिए विस्तार से बारे में बात करते है

दरअसल इसके पीछे तीन कारक काम करते है सिखो  की धार्मिक शिक्षा, सिक्खों का इतिहास और सिक्खों पर सामाजिक दबाव इन तीनो वजहों के चलते सिक्ख कभी भी भीख नहीं मांगते वो गरीब है तो मजदूरी कर लेंगे, कुछ भी बेच देंगे उससे गुजारा कर लेंगे लेकिन कभी किसी के आगे हाथ नहीं फैलायेंगे

सिक्ख को बचपन से सिखाया जाता है तू सरदार है तुझे देना है धर्म पुण्य करना है किसी के आगे हाथ मत फैलाना, सिक्खों का इतिहास भी काफी वीरता भरा रहा है वो पंजाब के सिंह अर्थात शेर कहलाते है और भला शेर कभी भीख मांगेगा क्या? इन सबके बाद सिक्खों का समाज ही ऐसा बन चुका है जहाँ पर देने की बात होती है कि हम इस देश को समाज को क्या दे सकते है हमें सिक्खों का नाम और ऊपर करना है इस वातावरण में रहकर बच्चा बड़े होते होते ऐसा बन जाता है कि वो भीख मांगने को लेकर सोच भी नहीं सकता

अन्य समुदायों को भी जरुरत है कि वो सिख भाइयो से कुछ सीख ले और देश भर से भिखारियों को समाप्त कर उन्हें कम से कम मजदूर वर्ग में शामिल करे

loading...
Updated: January 11, 2017 — 4:50 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hindi Circle © 2017